सिविल सेवा परीक्षा में बदलाव 2011 से

Print

युपीएससीअगले साल यानी 2011 से संघ लोकसेवा आयोग के तहत् सिविल सेवा की

प्रारंभिक परीक्षा में परीक्षार्थियों के लिए विकल्प आधारित कोई प्रश्नपत्र हीं होगा। हालांकि उन्हें संवाद दक्षता क्षमता, तर्कशक्ति क्षमता, मानसिक दक्षता, आंकिक दक्षता और अंग्रेजी भाषा ज्ञान तथा सामान्य ज्ञान के दो पत्रों की परीक्षा देनी होगी। कार्मिक, जनशिकायत एवं पेंशन मंत्रालय के मुताबिक, संघ लोक सेवा आयोग अब सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के पाठ्यक्रम में बदलाव कर रहा है। इसके तहत 200-200 अंक के दो प्रश्नपत्र होंगे, जिनमें से हर एक को पूरा करने के लिए दो-दो घंटे का समय दिया जाएगा।

 

प्रश्नपत्र प्रथम में समसामयिक घटनाओं और अंतरराष्ट्रीय महत्व के विषय, भारतीय इतिहास, भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन, भारत और विश्व भूगोल, भारतीय राजनीतिक व्यवस्था, आर्थिक एवं सामाजिक विकास, पर्यावरण, जैव विविधता, जलवायु परिवर्तन के अलावा सामान्य विज्ञान के विषय शामिल होंगे। सिविल सेवा परीक्षा, 2011 के दूसरे प्रश्नपत्र में संवाद दक्षता क्षमता, तर्कशक्ति परीक्षा, विविध समस्या और विषय पर निर्णय लेने की क्षमता की परख, मानसिक दक्षता परीक्षा, आंकिक परीक्षा के अलावा अंग्रेजी भाषा दक्षता परीक्षा शामिल होंगे। आंकिक परीक्षा के अलावा अंग्रेजी भाषा दक्षता परीक्षा में दसवीं कक्षा के स्तर के प्रश्न पूछे जाएंगे। दूसरे पत्र में छात्रों से आंकड़ों के विश्लेषण पर आधारित प्रश्न भी पूछे जाएंगे जिसमें चार्ट, ग्राफ, विभिन्न आंकड़े आदि दिए जाएंगे।

अब तक पहले प्रश्न पत्र में उम्मीदवारों को वैकल्पिक विषय चुनने की छूट रहती थी जबकि दूसरे प्रश्नपत्र में छात्रों की सामान्य ज्ञान क्षमता की परख की जाती थी। दोनों प्रश्नपत्रों में वैकल्पिक सवाल रहते थे और विभिन्न विकल्पों में छात्रों को एक सही उत्तर चुनना होता था।

Last Updated ( Wednesday, 20 October 2010 11:12 )